Announcement

Collapse

आइये हम लोग साथ काम करे

दोस्तों अगर आप अच्छे लेखक है और अच्छे सवाल भी पूछ सकते है तो स्वागत है आपका हमारी दुनिया में जहाँ हम लोग अपने साथियो के साथ अपनी कमाई भी शेयर करते है.
यदि आप के पूछे हुए सवाल लोगो का ध्यान आकर्षित करते है और 10 जवाब पाते है तो आपके सवाल को पेड प्रोग्राम में सम्मिलित किया जायेगा और भविष्य में पूछे जाने वाले हर सवाल के लिए आपको भुगतान किया जायेगा.
See more
See less

Women’s Day: परवाज़ की उड़ान

Collapse
X

  • Women’s Day: परवाज़ की उड़ान

    पत्नी को वह बहुत ही प्यार करता, उस के सारे शौक पूरे करता मगर उसे कैद से जिंदगी जीने देता. न्यूयौर्क से लौटने पर वायरस के चलते आइसोलेशन में अकेले रहना पड़ा तो उस ने फैसला कर लिया.

    Click image for larger version

Name:	4-2.jpg?fit=1024%2C680&ssl=1.jpg
Views:	7
Size:	153.8 KB
ID:	3193

    लेखक- शोभा रानी गोएल

    बिजनैस मीटिंग मे भाग लेने के लिए वह 15 दिनों पहले न्यूयौर्क आया. मीटिंग बहुत अच्छी रही. कंपनी को नया प्रोजैक्ट मिल गया. वह बहुत खुश था. उसे अपनी कामयाबी पर बहुत फख्र हो रहा था. खुशी का एक कारण यह भी कि वह अपने वतन लौटा लौट रहा था. हिंदुस्तान जैसा दूसरा इस जहां में कहां.

    हिंदुस्तान की मिट्टी की खुशबू ही अलग है, जिस में रिश्ते पनपते हैं. अमेरिका ने बहुत तरक्की की है, इस में शक नहीं लेकिन संस्कृति में अपने हिंदुस्तान का सानी नहीं. उसे आन्या की याद आई. आन्या उस की पत्नी, साक्षात अन्नपूर्णा है. सभ्य, सुसंस्कृत और मृदुभाषी…22 घंटे के सफर की थकान आन्या के हाथ की एक कप चाय पलभर में छूमंतर कर देगी. बेटे आदित्य के साथ फुटबौल खेलते हुए वह खुद को दुनिया का सब से खुश इंसान समझने लगता है. वह यह सब सोचसोच कर मुसकरा रहा था.

    जब वह अपने देश में आया तो यहां का नजारा बदल चुका था. कोरोना वायरस हिंदुस्तान में कहर बरपा रहा था. दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरते ही एयरपोर्ट ऐडमिनिस्ट्रेशन ने चश्मे जैसे यंत्र से उस की स्क्रीनिंग कर जांच की. उसे बताया गया कि उसे बुखार है.‌ उस ने अधिकारियों और स्वास्थ्य कर्मचारियों से कहा कि थकावट के कारण थोड़ी सी हरारत है. पर, उसे कोरोना संदिग्ध मानते हुए उस से अस्पताल चल कर चैकअप कराने को कहा गया. उस ने कितनी बार मिन्नतें कीं, पर उस की एक न सुनी गई. उसे आश्वासन दिया गया कि उस के परिवार को सूचित कर दिया जाएगा, साथ ही, उस के परिवार का पूरा ध्यान भी रखा जाएगा.

    अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रहने व जरूरी जांच के लिए उसे भरती किया गया. वहां उसे डाक्टर और मैडिकल स्टाफ के सिवा किसी से भी मिलने की इजाजत नहीं थी. डाक्टर व नर्स आते, उस का चैकअप करते, दवाई देते. वार्डबौय पलंग की चादर बदलता, सफाईकर्मी अपना कार्य करते, साथ ही, हाल चाल पूछ लेते. कमरे में टीवी भी लगा हुआ था.

    इन सब के बावजूद वह अकेलापन महसूस करता. वह‌ बारबार बाहर की दुनिया में जाना चाहता. पर यह संभव नहीं था. ‌एक बार उस ने वहां से निकलने की कोशिश की, तो पकडा गया. उसे सख्त हिदायत दी गई, यदि उस ने दोबारा ऐसा किया तो उस पर गैरइरादतन हत्या का केस दर्ज किया जाएगा. जब तक उस की रिपोर्ट नहीं आती, और वह कोरोना नैगेटिव नहीं पाया जाता, तब तक उसे यहीं रहना है. उस पर कड़ी निगरानी रखी जाती. वैसे, अस्पताल प्रशासन और कर्मचारी उस के साथ अच्छा व्यवहार करते. डाक्टर व नर्स उस से प्यार से बातें करते, उस की काउंसलिंग करते, उस की बातें धैर्य से सुनते. फिर भी, उसे कैद जैसा महसूस होता. अभी उसे यहां आए 5 दिन ही हुए थे, उस की रिपोर्ट पैंडिंग थी. वह बाहर की दुनिया में जाने के लिए छटपटाने लगा. वह रातदिन सोचता रहता.

    सोचतेसोचते वह आन्या को याद करने लगा. आन्या से उस के विवाह को 10 वर्ष होने को आए. शादी से पहले आन्या नौकरी करती थी. उस ने घर की देखभाल करने के कारण नौकरी करने से मना कर दिया. उस ने जिद करनी चाही पर उसे दृढ़ देख कर मान गई. जब भी वह घर से बाहर जाना चाहती, वह हमेशा मना कर देता. घर का सौदा वगरह वह ही लाता. पानी व बिजली के बिल खुद जा कर भर देता. आन्या कभी घूमने के लिए जाना चाहती, तो वह साथ में जाता. मायके भी साथ जाता, साथ ही ले आता. उसे अकेला कभी कहीं जाने न देता. उस की फिक्र करतेकरते उस की ऐसी फितरत बन गई.

    उस ने आन्या को घर से बाहर निकलने से सख्त मना कर दिया था. दूधसब्जी से ले कर घर की सभी जरूरी चीजें वह खुद ला कर देता. कभीकभी आन्या जिद करती, तो वह उसे डांट देता, बुराभला कहता. धीरेधीरे उस ने कहना ही छोड़ दिया. शादी के 2 वर्षों बाद उन की जिंदगी में आदी आया. लेकिन उस की सोच नहीं बदली. उस की मानसिकता वही रही कि बाहर की दुनिया स्त्री के लिए सुरक्षित नहीं है. महिलाएं बाहर जा कर आफत को निमंत्रण देती हैं.

    उस के औफिस में महिलाएं काम करती थीं. अकसर सहकर्मी उन के कपड़े और उन के कार्यों पर छींटाकशी करते. वह यह सब देखता था. महिला बौस का तो सहकर्मी पीछे मजाक बनाते, उन की मिमक्री करते. आतेजाते राह में असामाजिक तत्त्वों द्वारा लड़कियों को छेड़ते उस ने कई बार देखा था. अखवार मे आएदिन वह रेप की‌ खबरें पढ़ता. तो मन दहल जाता. इसीलिए वह आन्या के बाहर जाने पर रोक लगाने लगा. आन्या ने अब उस से कुछ कहना ही छोड़ दिया. वह आदी के साथ ज्यादा समय गुजारती, उस के साथ खेलती व बातें करती.

    ऐसे मना उसे धीरेधीरे यह एहसास होने लगा था कि आन्या उस से दूर जा रही है. अब वह उस से जरूरतभर बात ही करती. जब कभी आत्मिक क्षणों में उस के पास आता. वह स्थिर बनी रहती. वह अब न शिक़ायत करती और न ही अपनी इच्छा व्यक्त करती.

    एक दिन औफिस से लौटते समय रैडलाइट होने पर कार रोकी. एक बहेलिया इक प्यारी सी चिड़िया को पिंजरे में कैद कर उसे पिंजड़ासहित बेच रहा था. वह आदी के लिए उसे खरीद लाया. पिंजरे में दानापानी रखते हुए आन्या उस चिड़िया से कह रही थी, ‘तेरीमेरी एक ही नियती, जिंदगी बनी कैद मुसाफिर.’

    वह नहीं समझ पाया था कि आन्या किस यंत्रणा से गुजर रही है. उस ने समझना ही नहीं चाहा. वह अपने अहं में चूर रहा. चिड़िया से वह उसे अकसर बातें करते देखता, तो हंसने लगता, कहता, ‘यह मूक प्राणी तुम्हारी बातें क्या समझेगा, और क्या जबाव देगा?’ ‘कुछ बातों के लिए जवाब नहीं, जज़्बातों की जरूरत होती है, वह तुम नहीं समझोगे,’ आन्या ने कहा था.

    एक मीटिंग के सिलसिले में जब अमेरिका के प्रसिद्ध शहर न्यूयौर्क आने का मौका मिला तो वह खुशीखुशी पैकिंग करने लगा. तब दबी जबान में आन्या ने उसे साथ ले जाने का आग्रह किया. तो, वह बिफर पड़ा था. ‘मैं घूमने के लिए नहीं, काम करने के लिए जा रहा हूं. तुम्हारी मोटी बुद्धि तो हमेशा ही मौजमस्ती की ही बातें जानती है. घर का जरूरी सामान ला कर रख दिया है, बाहर निकलने की जरूरत नहीं है. जब भी फुरसत मिलेगी, वीडियो कौल करूंगा. आन्या का मन बुझ गया.

    आज जब उसे अस्पताल में रखा गया तब उसे आन्या की तकलीफ़ समझ आई, उस का दर्द दिखाई दिया. वह कितना बेदर्द था और आन्या कितनी बेबस. कितना निष्ढुर हो गया था वह. अब समझ गया कि हजार सुविधाएं भी आजादी के अभाव में कांटें बन जाती हैं. किसी को कैद कर उसे सुखी समझना जीवन की सब से बड़ी भूल होती है, अन्याय है यह.

    जब कांटों से डर कर गुलाब खिलना नहीं छोडते, तो फिर हम उन पर क्यों बंदिशें लगाएं. यहां से ठीक होने के बाद अब वह सब से पहले आन्यारुपी अपनी चिड़िया को आजाद करेगा खुले आसमां में, उस की ऊंची उड़ान देखेगा. फिर, आन्या से माफी मांग कर उसे खुद के जीवन जीने के लिए लगी बंदिशें हटा देगा. अब कोई कैद नहीं, जीवन फिर से खिलखिलाएगा.



    Credit - Saras Salil
Previously entered content was automatically saved. Restore or Discard.
Auto-Saved
Smile :) Stick Out Tongue :p Wink ;) Mad :mad: Big Grin :D Frown :( Embarrassment :o Confused :confused: Roll Eyes (Sarcastic) :rolleyes: Cool :cool: EEK! :eek:
x
Insert: Thumbnail Small Medium Large Fullsize Remove  
x
or Allowed Filetypes: jpg, jpeg, png, gif, webp
x
x
Advanced Options
Rendering Options
Working...
X